SAR Value Kya Hai? SAR Value Full Information in Hindi

आप अक्सर अपने फ़ोन का इस्तेमाल करते हैं लेकिन क्या आपने SAR Value के बारे में सुना है, क्या आप जानते हैं कि SAR Kya Hai और कैसे काम करता है? अगर आप नहीं जानते हैं तो घबराइए मत आज हम आपको SAR Value क्या है और इसके बारे में सम्पूर्ण ज्ञान देने वाले हैं।

दोस्तों स्मार्टफोन अब एक जरुरी उपकरण बन गया है। हमारे दैनिक जरूरतों को पूरा करने में स्मार्टफोन एक अहम भूमिका निभाता है। में आशा करता हूँ कि आप इस बात से भी जागरूक होंगे कि मोबाइल नेटवर्क से निकलने वाली तरंगें हमें नुकसान पहुंचाती है।

आज इस लेख के माध्यम से हम आपको SAR Value के बारे में बताने वाले हैं। अगर आप मोबाइल का उपयोग करते हैं तो आपको SAR Value Kya Hota Hai यह जरूर पता होना चाहिये।


SAR Value क्या है? (What is SAR Value in Hindi)

SAR Value Kya Hai

दोस्तों सभी मोबाइल फोन कनेक्टिविटी के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी तरंगे उत्सर्जित करते हैं और जब भी कोई व्यक्ति मोबाइल का इस्तेमाल करता है और इसे अपने शरीर के पास अथवा कान के पास लगाता है तो उसका शरीर ऐसी कई रेडियो फ्रीक्वेंसी तरंगों को अवशोषित कर लेता है।

मोबाइल से निकलने वाली रेडियो तरंगों का स्तर विभिन्न डिवाइस में अलग-अलग हो सकता है, और इसे मापने के लिए SAR Value का उपयोग किया जाता है। SAR Level बताता है की जब कोई व्यक्ति फ़ोन का इस्तेमाल करेगा तो अधिकतम कितनी Radio Frequency Waves उसका शरीर अवशोषित करेगा।

हमारा फ़ोन नेटवर्क स्थापित करने के लिए रेडियो तरंगों का उपयोग करता हैं। इन तरंगों को हम देख नहीं सकते पर यह हमारे आसपास ही होती है।

जब हम अपने फ़ोन का उपयोग करते हैं तो इससे विद्युत चुंबकीय तरंगे निकलती है जिसका कुछ मात्रा हमारे शरीर द्वारा अवशोषित कर ली जाती है। दरअसल SAR Value Ka Matlab हमारे शरीर द्वारा अवशोषित की जाने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन के मापदंड से है।


SAR Value Full Form in Hindi

दोस्तों SAR की फुल फॉर्म Specific Absorption Rate है। जिसका हिंदी में अर्थ विशिष्ट अवशोषण दर होता है।


FCC द्वारा निर्धारित SAR Value का अधिकतम स्तर (Maximum SAR Value India in Hindi)

Federal Communication Commission द्वारा एस. ए. आर. वैल्यू का एक स्तर निर्धारित किया है। भारत के स्मार्टफोन के लिए SAR Value का स्तर 1.6 W/KG निर्धारित किया गया है। कोई भी स्मार्टफोन कम्पनी इससे अधिक सार वैल्यू का स्मार्टफोन भारत में नहीं बेच सकती है।

USA के मोबाइल डिवाइस के लिए भी निर्धारित SAR लेवल 1.6 W/KG ही है जबकि यूरोप के लिए SAR Value का अधिकतम स्तर 2 W/KG निर्धारित किया गया है। भारत और उस के लिए SAR वैल्यू एक ग्राम टिश्यू का औसत लेकर मापी जाती है जबकि यूरोप के लिए दस ग्राम टिश्यू के औसत के आधार पर SAR वैल्यू मापी जाती है।


मोबाइल की SAR Value Testing कैसे की जाती है

मोबाइल के SAR Level को टेस्ट करने के लिए मानव के समान एक मॉडल का इस्तेमाल किया जाता है। इस मॉडल की सहायता से चेक किया जाता है कि मोबाइल से निकलने वाली कितनी रेडिएशन मानव के शरीर के विभिन्न अंगों द्वारा अवशोषित की जाएगी।

SAR Value Kya Hai यह जांचने के लिए मोबाइल को उस मॉडल के Head के दोनों तरफ़ अर्थात दोनों कानों के पास एवं अन्य अंगों पर टेस्ट किया जाता है। पूरी तरह से जाँच पड़ताल करने के बाद उसकी एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार की जाती है।

इस टेस्ट रिपोर्ट को गवर्नमेंट से हरी झंडी मिलने के बाद नया मोबाइल बाजार में आने के लिए तैयार हो जाता है। तो दोस्तों अब आप को समझ आ गया होगा कि सार वैल्यू कैसे टेस्ट की जाती है।


SAR Value Kaise Check Kare?

Sar value kaise check karte hai

दोस्तों 1.6 W/KG से अधिक SAR लेवल आपके लिए खतरनाक हो सकता है, इसलिए जरूरी है कि आप अपने फोन का SAR Value अवश्य चेक करें। तो चलिए जानते हैं कि मोबाइल फ़ोन में SAR Value कैसे चेक करते हैं।

आपको बता दूं कि SAR Value चेक करना बहूत ही आसान है। इसके लिए आपको अपने फ़ोन में SAR Value Checking Number *#07# डायल करना है, और आपके फ़ोन की SAR Value Kya Hai वो आपकी मोबाइल स्क्रीन पर आ जायेगी।


फ़ोन में SAR Value कितना होना चाहिए

दोस्तों भारत में एक मोबाइल डिवाइस की SAR Value 1.6 W/KG से अधिक नहीं होनी चाहिए। अगर आपके फोन कि SAR वैल्यू इससे अधिक है तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि सभी मोबाइल कंपनियां FCC द्वारा निर्धारित की गई SAR वैल्यू का पालन करती है और सभी मोबाइल फ़ोन की SAR Value FCC द्वारा निर्धारित की गई सीमा के अंदर ही रखी जाती है।

अगर आप कोई नया फ़ोन ले रहे हैं तो उसकी SAR Value Kya Hai वह आप मोबाइल के बॉक्स पर देख सकते हैं और मोबाइल कंपनी की वेबसाइट पर भी आपको उस मोबाइल की SAR Value क्या है इसकी जानकारी मिल जाती है।


Mobile Radiation से बचने के उपाय

दोस्तों मोबाइल फ़ोन हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन गया है, लेकिन इससे निकलने वाली रेडिएशन कई बीमारियां दे सकती है। इसलिए हमें मोबाइल रेडिएशन से बचना चाहिए। मोबाइल रेडिएशन से बचने के लिए आप नीचे दिए गए उपाय अपना सकते हैं।

  • सबसे पहला उपाय यह है कि अपने फ़ोन का कम से कम उपयोग करें। जरूरत पड़ने पर ही इसका इस्तेमाल करें।
  • मोबाइल को अपने शरीर से दूर रखें।
  • सोते समय मोबाइल को तखिये के नीचे ना रखें। बेहतर है कि आप मोबाइल को दूर रखकर ही सोएं।
  • जब आप कार, बस, ट्रैन एवं प्लैन में सफर करते हैं तो आपका स्मार्टफोन ज्यादा रेडिएशन उत्सर्जित करता है, इसीलिए ट्रेवल करते समय मोबाइल का इस्तेमाल न करें।
  • फ़ोन कॉल की बजाय टेक्स्ट मैसेज का उपयोग करने की कोशिश करें।
  • अगर आप अपना अधिकतम समय मोबाइल पर बात करने में बिताते हैं तो बेहतर है कि आप वायर इयरफोन का इस्तेमाल करें या फिर फोन को लाउडस्पीकर पर रख कर बात करें। इससे फ़ोन आपसे थोड़ा दूरी पर रहेगा।

दोस्तों अगर आप बतायी गयी सावधानियां रखते हैं तो आप काफी हद तक अपने आपको मोबाइल रेडिएशन से बचा सकते हैं।


Also Read: What is OTP Meaning in Hindi


Conclusion

दोस्तों उम्मीद है कि आपको समझ आ गया होगा कि SAR Kya Hai. इस लेख के माध्यम से मैने SAR Value क्या है के बारे में अच्छे से समझाने की कोशिश करी है।

आपको SAR क्या है के बारे में यह जानकारी केसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं। अगर आपके मन में कुछ भी सवाल है तो आप हमसे कमेंट करके साझा कर सकते हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां