Omicron क्या है? Corona का नया Variant पूरी जानकारी – Fly Hindi

Corona के नए Variant Omicron ने दुनिया में दस्तक दे दी है। हाल ही में दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का नया वैरिएंट पाया गया जिसे Omicron नाम दिया गया। चलिए जानते हैं की यह Omicron Kya Hai और अभी तक इस बारे में क्या जानकारी सामने आयी है।

पिछले 2 साल से विश्व भर में कोरोना ने तबाही मचा रखी है। कोरोना हर बार नए रूप में सामने आता है और हर बार इसका रूप पहले से कई गुना ज्यादा भयानक होता है। जो विश्व भर विशेषज्ञों को भी हैरान कर देता है। इससे पहले कि लोग पिछले Variant से सम्भल पायेँ, कोरोना का नया Variant आ जाता है। पिछले दो सालों में कोरोना के एक के बाद एक भयानक रूप देखने को मिले है। इससे करोड़ो लोगो ने अपनी जान गवाई है।

कई देशों में कोरोना की चोथी और पाँचवी लहर तक आ गई और इससे वहाँ लाखों जाने गई और साथ ही उनकी अर्थव्यवस्था पर भी बहुत बुरा प्रभाव पड़ा। लेकिन भारत अभी तक कोरोना के इन Variant से बचा रहा। कुछ समय से कोरोना के Variant डेल्टा के कुछ केस सामने आ रहे हैं पर हालात काबू में है।

पिछले कुछ दिनों से विश्व के कई देशों में कोरोना के मामलों बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं और इसका मुख्य कारण बताया जा रहा है कोरोना का नया वेरिएंट Omicron। जी हाँ कोरोना ने वापस एक नए रूप में दस्तक दे दी है, जो कि पहले के अन्य रूपों के मुकाबले कई गुना ज्यादा भयानक और तबाही मचाने वाला साबित हो सकता है।

बताया जा रहा है कि इसका पहला मामला दक्षिण अफ्रीका में पाया गया और अब यह विश्व के कई देशों को अपनी जकड़ में ले चुका है। तो आइये जानते है, कोरोना का नया वेरिएंट Omicron क्या है? और इससे सम्बन्धित अन्य बातें।

कोरोना का नया वेरिएंट (Corona Ka Naya Variant in Hindi)

omicron kya hai

कोरोना के नए Variant का औपचारिक नाम B.1.1.529 है। और इस बार इसके इस नए रूप को विश्व स्वाथ्य संगठन (WHO) ने ”Omicron” नाम दिया है। Omicron Virus की एक ओर नई लहर बडी तेजी से बढ़ती जा रही है।

Omicron क्या है? (What is Omicron in Hindi)

विश्व स्वास्थ्य संगठन की Covid-19 तकनीकी टीम की प्रमुख मारिया वान करखोव ने बताया कि Variant का दक्षिण अफ्रीका में पता लगाया गया और इस समय इसके 100 से भी कम पूरे जीनोम सीक्वेंस उपलब्ध हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, COVID-19 के नए Omicron Variant जिसका औपचारिक नाम बी.1.1.1.529 संक्रमण है, इसका पहला मामला दक्षिण अफ्रीका में इस साल 9 नवंबर को सामने आया था।

ओमिक्रॉन के लक्षण (Omicron ke Lakshan)

इस महामारी बचने के लिए यह बेहद आवश्यक है कि आपको इस महामारी ओमिक्रॉन के लक्षण के बारें में जानकारी हो ताकि आप समय रहते इसका पता लगा सके और इसके प्रति सतर्क हो जाएं।  WHO ने इस Omicron के कुछ लक्षण बताए है। उनके अनुसार इस Variant के ज़्यादातर मरीजों में बदनदर्द और बहुत ज़्यादा थकावट की शिकायते देखने को मिल रही हैं। यह लक्षण युवाओं में देखने को मिल रहे है। डॉक्टर्स का कहना है कि अभी यह अनुमान नही लगाया जा सकता है कि ऐसे लोग जिन्हें जो पहले से अन्य बीमारियों से पीड़ित हैं या जिन्हें ज्यादा खतरा है, उन पर यह Variant कितना प्रभावी होगा और उन्हें इससे कितना अधिक खतरा है।

 एक्सपर्ट्स का कहना है कि लगातार हो रहे तेज बुखार के साथ गले में खरास, बदन दर्द या जोड़ो में दर्द अथवा सिरदर्द आदि होने पर ओमिक्रॉन होने की संभावना अधिक होती है। जबकि सर्दी के मौसम में आमतौर पर होने वाली स्वास्थ्य परेशानियां ओमिक्रोन के भी लक्षण है। साधारण बुखार, सर्दी-जुकाम, छींक और नाक बहना आदि को नजरअंदाज करना भी भारी पड़ सकता है।

कैसे मिला नाम Omicron

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना के इस वैरिएंट का नाम “Omicron” रखा है। डब्ल्यूएचओ कोरोना के Variant के नाम ग्रीक वर्णमाला के शब्दों के मुताबिक देता है। डब्ल्यूएचओ ने ग्रीक वर्णमाला के 15वे शब्द पर इस Variant का नाम रखा है, जो कि ओमीक्रॉन है। डब्ल्यूएचओ ने इस Variant का नाम ग्रीक वर्णमाला में 15वे शब्द ओमीक्रॉन से पहले आने वाले दो 13वे और 14वे शब्द को छोड़कर दिया है।

डब्ल्यूएचओ ने वर्णमाला के 13वे शब्द Nu और 14वे शब्द Xi पर किसी Variant का नाम नही रखा है। कहा जा रहा है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नाम के समान होने के कारण ही शी (Xi) शब्द को छोड़ दिया गया है। जबकि न्यू (Nu) शब्द का अर्थ उच्चारण नए होने की वजह से छोड़ दिया गया है।

कहाँ से हुई Omicron की शुरुआत

दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रीय सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान- नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज (एनआईसीडी) ने पुष्टि की है कि दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का नया Variant “B 1.1.529” इसी महीने में दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था।

लंदन में स्थित यूसीएल जेनेटिक्स इंस्टीट्यूट के एक वैज्ञानिक का यह कहना है कि अभी तक यह पूरी तरह से स्पष्ठ नही हुआ है कि कोरोना का यह Omicron Variant पहली बार कहां से आया, लेकिन इसके कुछ केस अफ्रीकी देशों में मिले है और दिनों-दिन इनमें बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। यह कहा जा रहा है कि टीके के अभाव के कारण अफ्रीकी देशों में वेक्सिनेशन की दर कम है और नया Variant सबसे पहले वही से आया है।

दक्षिण अफ्रीका में अभी तक इस Variant के 22 केस सामने आए है। दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिसीसेज (एनआईसीडी) ने इस बात की पुष्टि की है। संस्थान ने यह भी कहा है कि अभी जीनोमिक विश्लेषण चल रहा है और यह भी संभव हो सकता है कि इस Variant से जुड़े और भी मामले सामने आएं।

कितना खतरनाक है, Omicron

ओमिक्रोन यह कहा जा रहा है कि अन्य Variant के मुकाबले यह Variant कई गुना तेजी से फेल रहा है। बताया जा रहा है कि यह Variant 30 बार म्यूटेट होता है, जो कि बेहद तेज है। कोरोना के अन्य Variant अल्फा, बीटा और डेल्टा Variant की तुलना में यह Variant कही गुना ज्यादा खतरनाक तरीके से मरीजों को अपनी जकड़ में ले रहा है। यह एक बेहद चिन्ताजनक स्थिति है।

दक्षिण अफ़्रीका में सेंटर फॉर एपिडेमिक रेस्पॉन्स एंड इनोवेशन के निदेशक प्रोफ़ेसर टुलियो डी ओलिवेरा ने बताया है कि ओमिक्रोन में कुल 50 म्यूटेशन हुए हैं और 30 से ज्यादा स्पाइक प्रोटीन में हुए है। यदि वायरस के हमारे शरीर की कोशिकाओं से संपर्क बनाने वाले हिस्से की बात करें तो इसमें 10 म्यूटेशन हुए हैं। जबकि कोरोना की दूसरी लहर में दुनिया भर में तबाही मचाने वाले खतरनाक डेल्टा Variant में सिर्फ 2 म्यूटेशन हुए थे। इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कोरोना का नया Variant कितना खतरनाक हो सकता है।

40 देशों में फैली Omicron की दहशत

पहले Omicron की दहशत केवल 9 देशों में फैली थी। इन देशों में दक्षिण अफ्रीका, इजराइल, इटली, हॉन्गकॉन्ग, बोत्सवाना, बेल्जियम, जर्मनी, चेक रिपब्लिक और ब्रिटेन जेसे देश शामिल थे। लेकिन अब Omicron 40 देशों में अपने कदम जमा चुका है। चिंता की बात यह है कि अब Omicron भारत में भी पहुँच चूका है और इसके मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं।

5 दिसम्बर को राजस्थान राज्य में भी COVID-19 के नए Omicron Variant के 9 मामले मिले हैं। जयपुर जिले के आदर्श नगर में एक परिवार से 4 और 5 अन्य लोगों की ओमाइक्रोन परीक्षण में पॉजिटिव रिपोर्ट आई है। सूत्रों के अनुसार वह परिवार के चारों सदस्य हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे। स्वास्थ्य सचिव वैभव गलरिया के अनुसार संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोगों का भी परीक्षण किया गया। इसमें कुल 34 लोगों के सैंपल लिए गए थे, जिनमें से 25 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। इन लोगों के स्वाब नमूने जीनोम अनुक्रमण के लिए जयपुर के सरकारी सवाई मान सिंह अस्पताल में भेजे गए थे, इस जाँच में उनके सकारात्मक होने का पता लगा। 

रविवार को ही स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिल्ली में भी पहला Omicron मामला सामने आने की पुष्टि की। व्यक्ति हाल ही मेंतंजानिया से लौटा था। मरीज अब लोक नायक जय प्रकाश नारायण अस्पताल में भर्ती है। सूत्रानुसार रोगी ने पूरी तरह से टीका लगवाया था। 

इसके एक दिन पहले ही, महाराष्ट्र के पुणे में COVID-19 के नए Omicron Variant के लिए 7 और लोगों की पॉजिटिव रिपोर्ट सामने आई थी। इनमें 1 पुणे शहर और जिले के ग्रामीण हिस्सों से हैं, व्यक्ति ने हाल ही में फिनलैंड की यात्रा की थी। जबकि 6 मामले पुणे के पिंपरी चिंचवाड़ से सामने आये हैं। यहाँ एक 44 वर्षीय महिला और उसके पांच रिश्तेदारों के पॉजिटिव होने की बात सामने आई है, महिला पिछले महीने 24 नवंबर को नाइजीरिया के लागोस से लौटी थी। पिंपरी-चिंचवाड़ में वह अपने भाई से मिलने आई थी। जाँच में महिला, उनकी दो बेटियों, महिला के भाई और उनकी दो बेटियों के Omicron के लिए पॉजिटिव होने की बात सामने सामने आई है। इससे पहले भी महाराष्ट्र में इसके 2 मामले सामने आये थे।

भारत में सबसे पहले कर्नाटक में दो मामलों का पता चला, जिसके बाद महाराष्ट्र और गुजरात से मामले सामने आए। इसके बाद दिल्ली से Omicron Variant का एक मामला सामने आया था। फिर महाराष्ट्र से सात और मामले सामने आये इस तरह अभी तक महाराष्ट्र और राजस्थान दोनों जगह से ओमाइक्रोन के नौ-नौ मामले सामने आ चुके हैं। ओमाइक्रोन के बढ़ते मामलों को देखते हुए राजस्थान सरकार ने रोहिसा, नागौर जिले में कर्फ्यू लगा दिया।

भारत में भी Omicron की मामले बड़ी तेजी से बढ़ रहे है। भारत में अभी तक कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र और राजस्थान से मिले मामलों को मिलाकर देश में ओमाइक्रोन वेरियंट के मामलों की संख्या बढ़कर 21 हो गई है।

भारतीय विशेषज्ञों की राय

कुछ विशेषज्ञ ओमिक्रोन का सम्बन्ध HIV/AIDS से बता रहे है। उनका कहना है कि संभवतः किसी HIV/AIDS मरीज में इम्यूनो कंप्रोमाइज्ड शख्स से क्रोनिक इन्फेक्शन हुआ हो। विशेषज्ञों का कहना है कि नया वेरिएंट ओमिक्रोन ने हमें हैरान कर दिया है। अन्य वेरिएंट से बहुत अलग है। इसमें म्यूटेशन का असामान्य रूप देखने को मिल रहा है। सामान्यतः अभी तक वायरस में जो बदलाव देखने को मिले है उनके हिसाब से इस वेरिएंट में कई गुना तेजी से म्यूटेशन हुए हैं। इनकी वजह से वायरस के काम करने के तरीके में बड़े बदलाव आ सकते हैं।

पहले भारतीय विशेषज्ञों का कहना है कि अभी यह अनुमान नही लगाया जा सकता है कि नए Variant पर कोविड वेक्सीन असर करेगी या नही। इसका पता अगले दो हफ्तों में पता लगेगा। विशेषज्ञों ने यह भी कहा है कि इस बात की पुष्टि नही की जा सकती है कि कोरोना का यह Variant डेल्टा और अन्य Variant की तुलना में कितना खतरनाक है। इन बातों के अभी कोई प्रमाण नही मिले है। रिसर्च करने के बाद ही इन बातों की पुष्टि की जा सकती है। लेकिन अब कुछ ऐसे मामले भी सामने आ रहे है, जिनमें मरीज ने पहले ही पूरी तरह से टीकाकरण करवा रखा था।

Omicron के खिलाफ भारत सरकार ने उठाये सख्त कदम

कोरोना के इस Variant के बढ़ते खतरे को देखकर भारत सरकार द्वारा कई सख्त कदम उठाये जा रहे है। भारत सरकार ने केन्द्र सरकार ने राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को सतर्क रहने का आग्रह किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी इस Variant की तेजी से बढ़ रही गति को देखकर एक मीटिंग में अधिकारियों को अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लिए गए फैसले की समीक्षा करने और उस पर पुनः विचार करने के निर्देश दिए है।

जबकि कुछ अधिकारियों का कहना है कि अभी भारत सरकार को इंटरनेशनल ट्रैवल बैन करने की जरूरत नहीं है और ना ही यह इस समस्या का समाधान है। इसकी जगह यह बेहतर होगा कि विदेश से आ रहे लोगों की ट्रैकिंग जरूरी है और उन्हें क्वारंटीन किया जाए। कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन के खौफ के चलते विद्धयार्थियों की सुरक्षा को देखते हुए देश में स्कूल, कॉलेजों को भी बंद कर दिया गया है।

केंद्र सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि यदि दिल्ली में कोविड के मामलों में इसी तरह वृद्धि होती रही तो जल्द ही दिल्ली में “येलो अलर्ट” लगाना पड़ सकता है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि हम दिल्ली में कोविड के मामलों में वृद्धि से निपटने के लिए पहले की तुलना में 10 गुना अधिक तैयार है। 

आपको बता दे कि भारत सरकार ने कोरोना के नए Variant के बढ़ते खतरे को भांपते हुए भारत सरकार ने सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी कर राज्यों को कहा गया है कि वे सभी विदेशी यात्रियों का Covid Test जीनेम सीक्वेंसिंग के लिए करवाएं।

वह देश जहां इनके मामले मिल रहे हैं उनके लिए एक लिस्ट तैयार की है इनमे दक्षिण अफ्रीका, ब्रिटेन,ब्राजिल, बांग्लादेश, चीन, बोत्सवाना, मोरिशस, जिम्बाब्वे और न्यूजीलैंड जेसे देश शामिल है। इन देशों से आ रहे यात्रियों की कड़ी जाँच की जा रही है। जो लोग इन देशों से आएंगे, उन्हें 14 दिनों तक क्वारंटीन रहना होगा और रवाना होने से 48 घंटे पहले Covid Test रिपोर्ट देनी होगी।

राज्यों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा

भारत में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते केसों को देखकर कई राज्यों ने इसके खिलाफ सख्ती बढ़ा दी है। कई राज्यों की सरकारों ने नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया है ताकि कोरोना की इस बढ़ती रफ्तार को काम किया जा सके। दिल्ली सहित कर्नाटक, असम, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, मध्यप्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र आदि राज्यों की सरकारों ने नाइट कर्फ्यू का आदेश जारी कर दिये है।

Conclusion

दोस्तों, अब आप जान ही गए होंगे कि Omicron Variant कितना भयानक है। अगर समय रहते सरकार संभली नहीं तो जिस गति से यह बढ़ रहा है, हो सकता है कि यह भारत में भी पंहुच जाये। लेकिन यह केवल सरकार की ही जिम्मेदारी नहीं है, हमारी भी जिम्मेदारी है कि हम भी सतर्क रहे और सरकार के द्वारा दिए गए सभी आदेशों का पालन करे।

अब वक्त आ गया है कि इस Variant से लड़ने के लिए कड़े कदम उठाया जाए। क्या भारत सरकार को इंटरनेशनल ट्रैवल बैन कर देना चाहिए?  इस मामलें में आपकी क्या राय हैं और साथ ही ऐसे समय में भारत सरकार द्वारा कौन-कौनसे कदम उठाने चाहिए, आप भी हमें कमेन्ट करके जरूर बताएं। 

Jay Kanwar

Jay Kanwar is an professional blogger and content writer. She loves reading and learning new tech. She contributes most of the tech and informative articles on this blog.

Leave a Reply