VPN क्या है और कैसे इस्तेमाल करें – पूरी जानकारी

You are currently viewing VPN क्या है और कैसे इस्तेमाल करें – पूरी जानकारी

अगर आप इंटरनेट के बारे में जानकारी रखते हैं तो आपने VPN का नाम तो सुना ही होगा। क्या आप जानते हैं, VPN Kya Hai? अगर नहीं तो आपको इसके बारे में अवश्य जानना चाहिए, क्योंकि यह आपके सिस्टम को सिक्योर बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आजकल जैसे-जैसे इंटरनेट का उपयोग बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे इससे जुड़े अपराध भी बढ़ते जा रहे हैं। इसलिए यह बेहद आवश्यक है कि आप अपने सिस्टम को जितना सम्भव हो सके, उतना सुरक्षित बनाकर रखें। वीपीएन का उपयोग इसी के लिए किया जाता है।

VPN का उपयोग मोबाइल, कम्प्यूटर, स्मार्टवॉच और हर उस उपकरण में किया जा सकता है, जिसमें इंटरनेट का उपयोग किया जा सकता है। इस आर्टिकल “VPN क्या है” में आपको वीपीएन से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी दी गई है, जैसे कि VPN की फुल फॉर्म क्या है, VPN क्या होता है, यह कैसे काम करता है, किसी डिवाइस में वीपीएन कैसे ऑन और ऑफ करें आदि। इनके अलावा हमने इस आर्टिकल में आपको वीपीएन के उपयोग, फायदे व कमियों के बारे में भी बताया है। तो VPN के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़े और इससे पहले कि हम VPN के बारे में अधिक जाने सबसे पहले हमें इसका पूरा नाम (VPN full form in hindi) पता होना चाहिए। तो आइये जानते है, वीपीएन की फुल फॉर्म क्या है?

वीपीएन की फुल फॉर्म क्या है? (Full Form of VPN in Hindi)

वीपीएन का पूरा नाम (VPN full form in hindi) “Virtual Private Network” होती है।

VPN का हिंदी अर्थ क्या है? (VPN Meaning in Hindi)

वीपीएन का हिंदी अर्थ “आभासी निजी संजाल” होता है।

VPN क्या है (What is VPN in Hindi)

वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) एक ऐसी तकनीक है जो इंटरनेट का उपयोग करते समय आपके सिस्टम को निजी और सार्वजनिक नेटवर्क (जैसे कि Wi-Fi) का उपयोग करते समय सुरक्षा प्रदान करता है। यह आपकी पर्सनल इन्फॉर्मेशन व डाटा को लीक होने से बचाती है और हैकर्स से भी सुरक्षा प्रदान करती है। VPN Service का यूज अधिकतर ऑनलाइन काम करते समय किया जाता है। आप अपने Computer, SmartPhone, SmartWatch, SmartTV जैसी सभी डिवाइस में VPN का उपयोग कर सकते है।

वीपीएन आपके डिवाइस और सर्वर के बीच एक एन्क्रिप्टेड कनेक्शन तैयार करता है और आपके डाटा को unauthorized users से बचा कर रखता है। VPN आपके सर्वर के आईपी एड्रैस को छिपाकर आपकी डिवाइस को ट्रेक होने से भी बचाता है। सभी शैक्षिक संस्थाएं, सरकारी एजेंसियां, सामाजिक संगठन और बड़ी-बड़ी कम्पनियाँ भी अपने डाटा को सुरक्षित रखने के लिए VPN का यूज करती है।

VPN का मुख्य कार्य आपकी डिवाइस और उसके डाटा को उससे जुड़े सर्वर से सुरक्षित रखता है। जब आप किसी वेबसाइट का url सर्च करते हैं और उसके लिए रिक्वेस्ट करते हैं तो आपकी यह रिक्वेस्ट सबसे पहले इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) के पास जाती है। यहाँ आईएसपी द्वारा आपकी सारी ऑनलाइन डिटेल्स जैसे कि आपकी आईडेंटिटी, डिवाइस आईडी, आईपी एड्रेस, लोकेशन आदि ट्रेक की जाती है।

इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आपको उस वेबसाइट के सर्वर से कनेक्ट किया जाता है, जिस वेबसाइट का url आपने सर्च किया था। फिर सर्वर द्वारा आपके IP Address पर आपकी रिक्वेस्ट पर रिस्पॉन्स किया जाता है और आपकी स्क्रीन पर वह पेज ओपन हो जाता है जिसके लिए अपने रिक्वेस्ट की थी।

यह एक साधारण प्रक्रिया है, जो कि बिना वीपीएन का उपयोग किये की जाती है। इस प्रक्रिया में सभी काम इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) कर द्वारा होता है और क्योंकि आपकी सारी डिटेल्स ट्रेक कर ली जाती है तो गोपनीयता भी खत्म हो जाती है। लेकिन अगर आप किसी VPN Server का उपयोग करते हैं तो ऐसा नहीं होता। क्योंकि वीपीएन आपकी सभी डिटेल्स को सुरक्षित रखता है। तो आइये जानते है कि VPN Server किस तरह काम करता है?

वीपीएन कैसे काम करता है (How VPN Works in Hindi)

अगर आप किसी VPN Server का यूज कर रहें हैं तो जब आप किसी वेबसाइट का url सर्च करते हैं तो आपकी रिक्वेस्ट इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) के पास ना जाकर सबसे पहले वीपीएन सर्वर के पास जाती है। अब क्योंकि आपके और वीपीएन सर्वर के बीच एक एन्क्रिप्टेड कनेक्शन होता है तो आपकी सारी जानकारी सुरक्षित रहती है, इसे किसी अन्य सर्वर द्वारा ट्रेक नहीं किया जा सकता है।

अब वीपीएन सर्वर द्वारा इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) तक रिक्वेस्ट भेजी जाती है, जहाँ जाकर आपका डाटा डिक्रिप्ट हो जाता है। लेकिन आपकी पहचान पूरी तरह गुप्त रहती है, क्योंकि राऊटर द्वारा वहां आपका रियल IP Address ना भेजकर VPN सर्वर का IP Address भेजा जाता है। फिर वापस सर्वर द्वारा वीपीएन तक और वीपीएन द्वारा वापस इंक्रिप्ट तरीके से आपके सर्वर तक रिक्वेस्ट का जवाब भेजा जाता है और इसके बाद आपको उस वेबसाइट के सर्वर से कनेक्ट किया जाता है।

यह पूरी प्रक्रिया होने के बाद आपके सामने वह डाटा आ जाता है, जिसके लिए आपने रिक्वेस्ट की थी। इस प्रकार VPN Server और आपकी डिवाइस के बीच एक इंक्रिप्टेड कनेक्शन होता है और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर आपके सर्वर से डायरेक्ट कनेक्ट न होकर वीपीएन सर्वर के जरिये कनेक्ट होता है। इस कारण ISP के लिए आपको ट्रेक करना नामुमकिन हो जाता है और आपकी जानकारी चोरी होने का खतरा खत्म हो जाता है।

वीपीएन कैसे सेट करें?

आप Computer और SmartPhone दोनों में VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन दोनों ही डिवाइस में इसे VPN Anable करने का तरीका अलग-अलग होता है। आइये जानते है कि Computer और SmartPhone में VPN को कैसे इस्तेमाल करें।

Computer में VPN Anable कैसे करें?

Computer में VPN का इस्तेमाल करने के लिए आपको सबसे पहले एक अच्छे VPN Software की आवश्यकता होती है। फिर आपको उस सॉफ्टवेयर की सेटिंग्स में जाकर वीपीएन की सेटिंग्स सेट करनी होती है। इस पूरी प्रक्रिया को नीचे कुछ स्टेप्स में बताया गया है।

  • सबसे पहले Opera Developer Softwar को download कर install कर लें।
  • अब इसे ओपन करें और ऊपर की तरफ साइड में दिख रहे Menu के ऑप्शन पर क्लिक करें व सेटिंग पर क्लिक करें।
  • फिर Privacy And Security के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • अंत में वहां दिख रहे Enable VPN के ऑप्शन पर क्लिक कर दें
  • इस तरह आप बड़ी ही आसानी से अपने कम्प्यूटर में VPN On कर सकते हैं।

SmartPhone या Mobile में VPN Anable कैसे करें?

स्मार्टफोन में VPN Anable करने के लिए नीचे बताए गए स्टेप्स फॉलो करें।

  • सबसे पहले google play store से एक VPN App इंस्टॉल कर लें।
  • फिर उस App को Open करें और अपनी इच्छानुसार Location Set कर दें।
  • फिर Connect पर क्लिक करें।
  • इस तरह Connect पर क्लिक करते ही आपके स्मार्टफोन में VPN Enable हो जाता है।

VPN On करने के बाद आप उन Websites, Shows, Games में भी बड़ी आसानी से एक्सेस कर सकते हैं, जो आपके देश में बैन है। आप जब चाहें इसे Off भी कर सकते हैं। आइये जानते है कि VPN Disable कैसे किया जाता है?

VPN Disable कैसे करे?

अगर आप वीपीएन का उपयोग करते हैं तो जब आपको आवश्यक लगे, आप इसे बंद (disable) भी कर सकते हैं। जिस प्रकार फोन और कम्प्यूटर में VPN Anable करने के तरीके अलग-अलग है, उसी प्रकार इसे Disable करने के लिए अलग-अलग तरीके हैं। यहाँ हमने दोनों डिवाइस में VPN Disable करने की प्रक्रिया बताई है।

Computer में VPN Disable कैसे करे?

कम्प्यूटर में VPN Disable करने के लिए निम्नलिखित स्टेप्स फॉलो करें।

  • Opera Developer Softwar को ओपन करें।
  • Menu के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • Settings के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • अब Privacy And Security के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आखिरी में Disable VPN के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • इस तरह आप आपने सिस्टम में VPN Disable कर सकते हैं।

अब जैसा कि हमने आपको पहले बताया कि VPN का उपयोग करने के लिए पहले आपको आपके कम्प्यूटर या फोन में एक VPN Software इंस्टॉल करना पड़ता है। तो यह बेहद जरूरी है, कि आप एक अच्छे VPN Software को चुनें। तो आइये जानते हैं, इनके बारे में।

SmartPhone या Mobile में VPN Disable कैसे करें?

किसी स्मार्टफोन में VPN Disable करने के लिए नीचे बताई गई स्टेप्स को फॉलो करें।

  • VPN एप्प को ओपन करें।
  • Settings के ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • Disable VPN के ऑप्शन पर क्लिक करें।

इस तरह कुछ सिम्पल स्टेप्स को फॉलो कर आप बड़ी ही आसानी से किसी स्मार्टफोन या कम्प्यूटर में VPN को बंद कर सकते है।

Best VPN Software in India

VPN Softwares का चुनाव करते समय इस बात का खास ख्याल रखना होता है कि जिस भी VPN सर्विस को आप अपने उपयोग आप करें वह सुरक्षित हो और साथ ही कम खर्चे में बेहतरीन सर्विस उपलब्ध कराए। नीचे कुछ VPN Softwares के नाम बताए गए हैं, जिनका उपयोग आप कम्प्यूटर या फोन अपने कम्प्यूटर और फोन में कर सकते हैं।

कम्प्यूटर के लिए Best VPN Softwares कौनसे हैं? (Best VPN Softwares for Computer in Hindi)

यहाँ हमने कम्प्यूटर के लिए उपलब्ध वीपीएन के कुछ नाम बताए हैं, जो बेहतर सेवा प्रदान करते हैं। अगर आप वीपीएन का उपयोग करना चाहते हैं तो आप इनमें से किसी एक को चुन सकते हैं।

  • CyberGhost
  • Finch VPN
  • Hotspot Shield (Free VPN)
  • Open VPN
  • Windsribe
  • Surf Easy
  • Tunnel Bear
  • ZPN connect
  • Zenmate
  • Total VPN
  • Proton VPN (Free)
  • Hide.me
  • Speedify
  • Betternet

SmartPhone के लिए Best VPN Apps कौनसे हैं? (Best VPN Apps for SmartPhone in Hindi)

Smartphones के लिए उपलब्ध बेस्ट वीपीएन निम्नलिखित है।

  • Express VPN
  • Windscribe
  • Safer VPN
  • Nord VPN
  • Tiger VPN
  • Buffered VPN

दोस्तों, यहाँ बताए गए सभी सॉफ्टवर्स में से कुछ सॉफ्टवेयर फ्री है तो कुछ पेड है। Free VPNs बहुत ही कम होते है और अधिकतर Free VPN Service में लिमिट सेट होती है। यह लिमिट क्रॉस करने के बाद आप फ्री में उस वीपीएन सर्विस का उपयोग नहीं कर सकते हैं। फिर आपको एक paid vpn service का ही इस्तेमाल करना पड़ेगा। आप अपनी इच्छानुसार इनमें से कोई भी सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकते हैं।

Free VPN और Paid VPN में क्या अन्तर है (Difference between Free VPN and Paid VPN in Hindi)

अक्सर कई लोगों का सवाल रहता है कि Free VPN Service और Paid या Premium VPN Service में क्या अन्तर है। यदि वह फ्री वीपीएन की बजाय पेड वीपीएन सर्विस का उपयोग करते है तो उन्हें फ्री वीपीएन की तुलना में क्या-क्या फायदे मिलते है। तो यहाँ हमने कुछ मुख्य चीजें बताई है जो कि आपको केवल Paid अथवा Premium VPN Service का उपयोग करने पर ही प्राप्त होती है।

  • Free VPN की तुलना में Premium/Paid VPN की सर्विस क्वॉलिटी ज्यादा बेहतर होती है।
  • Free VPN Apps या Softwares पूरी तरह सिक्योर नहीं होते जबकि Premium VPN Apps या Softwares में सिक्योरिटी की गारंटी दी जाती है।
  • Free VPN में आपको बार-बार Ads देखने को मिलते है, जबकि यदि आप कोई Paid VPNs का उपयोग करते है तो यह आपको Ads Free Service प्रोवाइड कराई जाती है।
  • Free VPN की तुलना में Premium VPNs Service की स्पीड कई गुना अच्छी होती है।
  • यदि आप VPN की किसी पेड सर्विस का उपयोग करते है तो आपको प्रीमियम कस्टमर होने के कारण इंटरनेट सुरक्षा से सम्बन्धित अन्य जानकारी भी प्रोवाइड कराई जाती है, जो कि किसी फ्री सर्विस यूज करने वाले कस्टमर को नहीं मिलती।

इस प्रकार फ्री VPN की तुलना में Premium/Paid VPN की सर्विस अधिक लाभदायक होती है। लेकिन अधिकतर लोग पेड वीपीएन लेने के लिए सक्षम नहीं होते है और ऐसी स्थिति में उनका सवाल होता है कि क्या Free VPN का उपयोग करना उचित है और अगर हाँ तो कितना? तो आइये जानते है कि किसी फ्री वीपीएन सर्विस का उपयोग करना कितना सही होता है?

क्या फ्री वीपीएन का इस्तेमाल करना उचित है?

बहुत से लोग फ्री का vpn इस्तेमाल करते है, लेकिन मेरी सलाह है कि आपको फ्री वीपीएन का उपयोग करने से बचना चाहिए। क्योंकि यह इतने ज्यादा सुरक्षित नहीं होते है और इस तरह की vpn service पर हम ज्यादा भरोसा भी नहीं कर सकते हैं। क्या पता यह लोग ही आपका डाटा चुराकर उसे क्लिक क़र दे या कही बेच दे। सुरक्षा के अलावा ओर भी कई लाभ है जो आपको केवल किसी पेड वीपीएन सर्विस का उपयोग करने पर ही प्राप्त होते है। अगर आप एक नॉर्मल यूजर है, तो आप फ्री vpn service का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन जहां तक सम्भव हो आपको किसी पेड़ और भरोसेमंद वीपीएन सर्विस का ही उपयोग करना चाहिए। अब आइये जानते है कि VPN का उपयोग करने से आपको क्या-क्या फायदे होते है?

VPN के फायदे क्या है?

VPN का उपयोग करने के बहुत सारे फायदे है। नीचे VPN से जुड़े ऐसे ही कुछ फायदों के बारे में बताया गया है।

  • वह यूजर अपनी प्राइवेसी को लेकर गंभीर रहते हैं। वीपीएन उनके लिए एक अच्छा साधन है, जो उनकी वास्तविक पहचान और लोकेशन को छुपाकर रखता है। इससे आपका आईपी एड्रेस ट्रेक करना मुश्किल हो जाता है और आपके द्वारा की गई एक्टिविटीज का पता लगाना मुश्किल हो जाता है। यह आपके सर्वर को पब्लिकली भी सुरक्षित रखता है। उदाहरण के लिए किसी डिवाइस को Wi-Fi से कनेक्ट करते समय आपकी डिवाइस को safe रखना।
  • VPN आपको ट्रैकिंग, स्कैनिंग, हैकिंग आदि सभी प्रकार के ऑनलाइन फ्रॉड से online security प्रदान करता है।
  • VPN आपके सिस्टम को standard firewall के साथ एक अतिरिक्त सुरक्षा परत उपलब्ध कराता है, जो उसे virus मुक्त रखता है।
  • VPN के द्वारा आप कभी भी, कहीं से भी पूरी आजादी के साथ इंटरनेट का उपयोग कर कर सकते हैं।
  • VPN का उपयोग करके आप उन websites, shows आदि को एक्सेस कर सकते हैं, जिन पर इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (IPS) द्वारा प्रतिबंध लगाया गया है।
  • कई बार ऑनलाइन रहते हुए आपको स्लो इंटरनेट स्पीड का अनुभव करना पड़ता होगा। लेकिन यदि आप वीपीएन का उपयोग करते हैं तो आपके सामने इस तरह की दिक्क्तें भी नहीं आती है।

इस प्रकार यदि आप अपनी डिवाइस में किसी वीपीएन का उपयोग करते हैं, तो आपको कई सारे फायदे मिलते हैं। लेकिन जैसे कि हर चीज में कुछ खूबियां और उसके कुछ फायदे हैं तो उसमें कुछ कमियां भी होती है और उनके कारण कई नुकसान भी झेलने पड़ जाते है। इसी तरह अगर आप वीपीएन का उपयोग करते हैं तो हो सकता है आपको कुछ नुकसान भी उठाने पड़े। आइये जानते हैं, VPN से जुड़े ऐसे ही कुछ नुकसान के बारे में।

VPN के नुकसान क्या है?

एक ओर जहाँ VPN के इतने सारे फायदे हैं, वहीं दूसरी ओर इसके कुछ नुकसान भी है। जैसे कि

  • कई लोग यह सोच लेते हैं कि VPN को इस्तेमाल करके अगर वो कोई गलत काम भी करें तो उन्हें कोई पकड़ नहीं पाएगा और वह इस तरह अपराधिक गतिविधियों में शामिल हो जाते हैं।
  • कई बार वीपीएन का उपयोग करने से आपके इंटरनेट की स्पीड भी धीमी हो सकती है, क्योंकि एक ही VPN Server में कई सारे नेटवर्क का ट्रैफिक एक ही स्थान पर एक साथ encrypt किया जाता है।
  • यदि आपके द्वारा चुनी गई वीपीएन सर्विस भरोसेमंद नही हुई तो इसमें आपकी जानकारी और डाटा चोरी होने की भी सम्भावना रहती है।

FAQ: VPN से जुड़े सवाल-जवाब

क्या VPN का उपयोग करना आवश्यक है?

नहीं, आप चाहें तो बिना VPN के भी अपना कार्य कर सकते है, लेकिन यदि आप इसका उपयोग करते है तो यह आपके नेटवर्क और पहचान दोनों को सुरक्षित रखता है।

VPN कैसे काम करता है?

VPN एक प्राइवेट नेटवर्क होता है, जब हम लिंक के द्वारा किसी वेबपेज में एक्सेस करने के लिए रिक्वेस्ट भेजते है तो यह हमारे IP Address को बदल देता है। ताकि जब कोई हमारा आईपी एड्रेस ट्रैक करे तो उसे हमारा fake आईपी एड्रेस मिले न कि रियल। इस तरह वीपीएन किसी नेटवर्क और उसके यूजर की पहचान को छिपाने का काम करता है।

VPN का उपयोग कौन-कौनसी डिवाइस में कर सकते है?

वह सभी डिवाइस जिनमें आप इंटरनेट का उपयोग करते है, उन्हें आप VPN के द्वारा सुरक्षित कर सकते है। उदाहरण के लिए कम्प्यूटर, स्मार्टफोन, स्मार्टवॉच, स्मार्ट टीवी आदि।

Conclusion

तो दोस्तों अब आपको समझ आ ही गया होगा कि VPN kya hai और यह किस काम आता है। जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया VPN आपकी डिवाइस और डाटा को एक सुरक्षा प्रदान करता है। इसलिए जहाँ तक सम्भव हो आपको इसका यूज करना ही चाहिए। आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा, कमेन्ट करके जरूर बताए और साथ ही इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें। अगर आपके मन में VPN से सम्बन्धित कोई सवाल हो, तो आप कमेन्ट करके पूछ सकते हैं। ऐसी ही नई जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे ब्लॉग को फॉलो करे।

Leave a Reply